What is Twisted Pair Cable in hindi | Define UTP and STP Cable difference

Twisted Pair Cable Kya hai

जब दो separate insulated wires को एक साथ twisted pattern मे एक दूसरे के parallel रखते हुए बनाया जाता है तो इसको twisted pair cable कहते है | Wires के pair से एक circuit बनता है जिससे की data transmit होता है | जब wire मे electrical current flow होता है तो यह wire के चारो तरफ छोटा सा  magnetic field crate कर देता है एवं जब दो wires electrical circuit मे एक दूसरे के पास होते है तो उनका magnetic fields एक दूसरे के exact opposite होता है और दोनों magnetic fields एक दूसरे के magnetic effect को खत्म कर देते है इसके साथ साथ outside magnetic fields को भी cancel कर देते है | wires को Twist करने से wires का cancellation effect increase होने के साथ crosstalk (साथ वाले wire से generated होने वाली noise) से protection मिलता है | 

इस तरह की cable बहुत सारे data and voice infrastructures (जैसे की टेलीफोन कम्युनिकेशन्स एंड बहुत सारे नए ईथरनेट नेटवर्क्स) मे use होती है | Twisted pair cable, signal interference को दूर करने का काम करती है | Twisted pair cable दो तरह की होती है : unshielded twisted pair (UTP) and shielded twisted pair (STP) | STP and UTP केबल design and manufacture मे different होती है लेकिन उनका purpose सेम होता है -रिलाएबल कनेक्टिविटी व् डाटा ट्रांसमिशन | 

Unshielded Twisted Pair Cable UTP – 

UTP cables बहुत सारे ईथरनेट नेटवर्क्स एंड टेलीफोन वायर systems मे use की जाती है | UTP cable मे Shielded का मतलब है किसी प्रकार की अतिरिक्त शील्डिंग या कवर नहीं करना जैसे की meshes or aluminum foil | UTP cable, twisted pair के बंडल से मिल कर बनती है | ट्विस्टेड पेयर्स छोटे 22- or 24- अमेरिकन वायर Gauge (AWG) साइज के वायर्स एक दूसरे के ऊपर ट्विस्ट करके बनती है | Wires, copper polyethylene (PE) or FEP insulation से मिलकर बनते है जो की specific कलर कोडेड होता है | कलर कोड depend करता है की वो wire किस application के लिए design किया जा रहा है | जैसे की AT&T ने सबसे पहले 25-pair कलर कोड UTP केबल अपने इंडोर टेलीफोन applications के लिए develop की जिसमे की अलग अलग color pair use किये गए जैसे की – blue-white, white-blue, orange-वाइट, white-ऑरेंज आदि | ये वायर polyethylene जैकेट जिसका रंग ज्यादतर grey होता है से cover होते है | ये UTP केबल फाइबर एंड coaxible केबल की तुलना मे सस्ते होने की वजह से ज्यादा use की जाती है और कंप्यूटर नेटवर्किंग जैसे शार्ट and medium length Ethernet connections मे use किये जाते है | 

UTP Cable in Hindi

UTP Cable in Hindi

UTP केबल को ज्यादातर Jack 45 (RJ-45) connector के साथ इनस्टॉल किया जाता है | RJ-45 जो की eight-wire का connector होता है computer equipment को नेटवर्क or Ethernet से कनेक्ट करने के लिए काम आता है|

UTP cable के फायदे  – UTP का external diameter लगभग 0.43 cm (0.17 inches) होता है जो की इंस्टालेशन के लिए बहुत सूटेबल है  इसलिए UTP केबल मे installation इजी व् सस्ता होता है | UTP LAN केबलिंग दूसरे नेटवर्क मीडिया की तुलना मे सस्ता होता है और इसको लगभग सभी प्रकार के major networking आर्चिटेक्टर्स के साथ use किया जा सकता है | UTP केबल lightweight, thin and बहुत फ्लेक्सिबल होने के साथ versatile, रिलाएबल एवं inexpensive होता है | 

UTP को पहले स्लो मीडिया माना जाता था लेकिन अब यह सही नहीं है और आज की तारीख मे UTP को सबसे तेज कॉपर medium कहा जाता है UTP केबल की खासियत है –

  1. स्पीड — 10 to 1000 Mbps
  2. हर नोड की एवरेज कॉस्ट — सबसे सस्ती
  3. उसे की जाने वाली वायर व् कनेक्टर का साइज – सबसे छोटा
  4. सबसे लम्बी सुताब्ले केबल के लम्बाई —100 m

नुकसान –

  1. दूसरे cable medium की तुलना मे UTP cable मे ज्यादा electrical नॉइज़ व् interference होता है |
  2. ज्यादा लम्बाई की केबल मे डाटा ट्रांस्मिशन reliable नहीं है |
  3. Cross-talk ज्यादा होता है |
  4. डाटा के secure transmission का कोई provision नहीं है| 

सबसे ज्यादा प्रचलित UTP केबल है –

  1. CAT 1—पुराने telephone कम्युनिकेशन्स मे उसे होती थी | Speed सपोर्ट – up to 1 megabits per second (Mbps) |
  2. CAT 2—टोकन रिंग नेटवर्क के लिए काम मे आती थी | Speed सपोर्ट – up to 4 megabits per second (Mbps) |
  3. CAT 3—टोकन रिंग एंड 10BASE-T नेटवर्क्स के लिए | Speed सपोर्ट – up to 10 megabits per second (Mbps) |
  4. CAT 4—टोकन रिंग नेटवर्क के लिए काम मे आती थी | Speed सपोर्ट – up to 16 megabits per second (Mbps) |
  5. CAT 5—ईथरनेट, फ़ास्ट ईथरनेट एंड टोकन रिंग नेटवर्क के लिए | Speed सपोर्ट – up to 100 megabits per second (Mbps) |
  6. CAT 5e —ईथरनेट, फ़ास्ट ईथरनेट एंड गीगाबिट ईथरनेट नेटवर्क के लिए | Speed सपोर्ट – up to 1000 megabits per second (Mbps) |
  7. CAT 6— गीगाबिट ईथरनेट व् 10G नेटवर्क के लिए | Speed सपोर्ट – up to 10 Gbps (55 मीटर्स के लिए) |
  8. CAT 6a— गीगाबिट ईथरनेट व् 10G नेटवर्क के लिए | Speed सपोर्ट – up to 10 Gbps (55 मीटर्स के लिए) |
  9. CAT 7— गीगाबिट ईथरनेट व् 10G नेटवर्क के लिए | Speed सपोर्ट – up to 10 Gbps (100 मीटर्स के लिए)

Read Also – What is Network Cable in Hindi

Read Also – What is Fiber Optic Cable

Shielded Twisted-Pair Cable (STP) – 

STP Cable in Hindi

दो copper wires को एक दूसरे के साथ twist करने के बाद metallic foil से शील्ड या कवर करने के बाद सभी four पेअर वायर्स को metallic braid or foil से कवर करके STP कैबल बनायीं जाती है | एक तरह से Shielded twisted pair cable (STP) तीन techniques के कॉम्बिनेशन से बनती है – shielding, cancellation एंड वायर ट्विस्टिंग | STP मे UTP की तुलना मे जो एक्स्ट्रा covering होती है वह transmission line के अंदर व् बहार होने वाले electromagnetic इंटरफेरेंस से protects करती है | 

STP cabling को ईथरनेट नेटवर्क्स (especially जहाँ पर तेज डाटा रेट की जरुरत हो) मे use किया जाता है | ईथरनेट नेटवर्क installation मे STP, केबल के अंदर (pair-to-pair coupling or crosstalk) व् बाहर (EMI and RFI) होने वाले electrical noise को कम करती है | STP को install करने के लिए STP डाटा connector को use किया जाता है लेकिन UTP के use मे आने वाले RJ connectors को भी use किया जा सकता है |

वैसे तो UTP की तुलना मे एसटीपी, इंटरफेरेंस को रोकने मे ज्यादा इफेक्टिव होती है लेकिन इसकी कॉस्ट ज्यादा व् इंस्टालेशन कठिन होता है | इसके अतिरिक्त इसमें use होने वाला metallic शील्डिंग को दोनों तरफ ग्राउंडेड होना जरुरी होता है और अगर इसको अच्छी तरह से ग्राउंडेड नहीं किया हो तो यह शील्ड एक ऐन्टेना की तरह काम करने लगता है एवं कोई भी अनवांटेड सिग्नल receive कर सकता है | इन्ही वजह से यह बहुत ज्यादा काम मे नहीं ली जाती |

STP केबल  –

स्पीड सपोर्ट —10 to 100 Mbps |
हर नोड की कॉस्ट — UTP की तुलना मे महंगा |
केबल की मैक्स लम्बाई सपोर्ट —100 m

2 Comments

  1. Shailesh Kumar June 29, 2017

Leave a Reply