Difference between RAM and ROM memory in Hindi in tabular form

RAM और ROM में क्या अंतर है RAM ROM mai kya antar hai

रैम और रोम में क्या अंतर है : इस आर्टिकल से पहले हमने RAM and ROM के बारे मे आपको explain किया हुआ है। आज यहाँ पर हम आपको RAM ROM mai kya antr hai वो explain कर रहे है। दोनों के बिच होने वाले सभी differences को details मे discuss करेंगे। तो सबसे पहले हम आपको बताते है की RAM and ROM क्या होती है और फिर दोनों के बिच होने वाले differences को discuss करेंगे।

RAM ROM mai kya antar hai

RAM ROM mai kya antar hai

Basically कंप्यूटर मेमोरी को दो पार्ट्स मे divide किया जाता है – Primary memory and Secondary memory. RAM और ROM दोनों को प्राइमरी मेमोरी माना जाता है। RAM and ROM को मैन मेमोरी के नाम से भी जाना जाता है क्योकि ये CPU को direct डाटा ट्रांसफर कर सकते है। हार्ड ड्राइव, USB ड्राइव आदि को सेकेंडरी मेमोरी कहा जाता है। हार्ड ड्राइव को सेकेंडरी मेमोरी इसलिए कहा जाता है क्योकि हार्ड ड्राइव से डायरेक्ट डाटा ट्रांसफर CPU को नहीं किया जा सकता।

यहाँ पर हम आपको प्राइमरी मेमोरी के बारे मे थोड़ा सा बता दे की यह वो मेमोरी होती है जिसको CPU डायरेक्टली एक्सेस कर सकता है।

RAM क्या होता है : RAM का पूरा नाम random access memory होता है | यह मेमोरी किसी भी कंप्यूटर, लैपटॉप, मोबाइल या दूसरी डिवाइस मे तब use मे आती है जब devices on होते है| RAM के लिए मेमोरी modules का use किया जाता है जिसमे की electronic चिप लगी होती है और डाटा temporarily इन चिप मे ही स्टोर होता है| यह डाटा तब तक ही रहता है जब तक devices on रहती है जैसे ही devices को बंद कर दिया जाता है तो RAM से डाटा रिमूव हो जाता है और वापस कंप्यूटर ON करने पर डाटा नहीं मिलता| इसलिए ही इसको volatile memory कहते है| जब भी आप किसी मोबाइल या कंप्यूटर पर काम कर रहे होते है तो device के ON होते ही applications, data एवं OS की जरुरी files हार्ड ड्राइव से RAM मे लोड हो जाती है| इससे ये फायदा होता है की आप कोई भी टास्क तेजी से perform कर सकते है क्योकि हार्ड ड्राइव की तुलना मे RAM फ़ास्ट होते है और CPU इनको directly access कर सकता है| ये कहा जाता है की RAM and CPU के बिच की स्पीड CPU and hard drive के बिच की स्पीड से 100 गुना तक ज्यादा होती है| RAM मे डाटा and programs लोड होने पर programs बहुत फ़ास्ट स्पीड से काम कर सकते है एंड जयदा responsive होते है | इसलिए ही कहा जाता है की जितना जयदा RAM होगी उतना जयदा आपके कंप्यूटर or मोबाइल की स्पीड अच्छी होगी और वो बेटर परफॉर्म करेगा|

ROM क्या होता है : Definition of ROM : ROM को रीड ओनली मेमोरी भी कहा जाता है| ROM का डाटा CPU रीड कर सकता है but इसको change नहीं किया जा सकता| ROM का डाटा रीड करने के लिए इसके डाटा को सबसे पहले RAM मे लोड होना पड़ता है और एक बार डाटा RAM मे आ जाता है तो उसके बाद इसके डाटा को आसानी से CPU रीड कर सकता है | ROM मे वो सभी डाटा होता है जो की कंप्यूटर या मोबाइल को स्टार्ट होने के लिए जरुरी होता है| ROM के अंदर store होने वाला डाटा non-volatile होता है इसका मतलब ROM मे एक बार डाटा store कर दिया जाए तो यह डाटा पावर off करने पर भी save रहता है| ROM की capacity RAM की तुलना मे कम होने के साथ यह RAM से सस्ता और स्लो भी होता है|

RAM and ROM Memory के बिच main differences :

  1. RAM की full form Random Access Memory होती है जबकि ROM की Read Only Memory|
  2. सबसे बड़ा अंतर दोनों के बिच है की RAM एक read-write memory होती है जबकि ROM रीड ओनली मेमोरी होती है |
  3. RAM मे डाटा कुछ समय के लिए स्टोर होता है (जब तक CPU इसको process करता है) जबकि ROM का डाटा हमेशा के लिए स्टोर होता है एंड ये कंप्यूटर या mobile के बूट होने के लिए use लिया जाता है |
  4. RAM एक volatile memory है जबकि ROM is a nonvolatile memory है| मतलब RAM मे store होने वाला डाटा पावर off के साथ चला जाता है जबकि ROM मे हमेशा रहता है |
  5. RAM का डाटा आसानी से change किया जा सकता है जबकि ROM का data नहीं किया जा सकता |
  6. RAM का size ROM की तुलना मे बहुत बड़ा हो सकता है (up to GBs) |
  7. RAM की कॉस्ट ROM की तुलना मे जयदा होती है |

3 Comments

  1. vivek October 31, 2018
  2. Amol Gujar November 1, 2018
  3. Chandan Prasad Sahoo November 13, 2018

Leave a Reply