What is DBMS full form Database Management System definition functions

Advantages and Disadvantages of Database Management System DBMS

DBMS definition in Hindi: DBMS की फुल फॉर्म database management system होती है| डेटाबेस का सबसे इम्पोर्टेन्ट पार्ट DATA होता है जो की हमेशा से इम्पोर्टेन्ट रहा है, चाहे स्कूल मे स्टूडेंट्स के रिकार्ड्स को मेन्टेन करना हो, ऑफिस मे एम्प्लाइज का या फिर कुछ ओर| कंप्यूटर आने से पहले यह डाटा manually पेपर्स मे स्टोर करके रखते थे लेकिन जैसे जैसे computerization हुआ एवं कंप्यूटर की facility मिली डाटा को स्टोर करने के लिए डीबीएमएस सिस्टम सॉफ्टवेयर को use किया जाने लगा| जैसे की डीबीएमएस की फुल फॉर्म है डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम मतलब वो सिस्टम जो की डेटाबेस को मैनेज करता है| यहाँ डेटाबेस, डाटा के collection को कहते है जो की ek organized way मे स्टोर होता है| डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम एक सिस्टम सॉफ्टवेयर होता है जो की बहुत सारे प्रोग्राम्स का कलेक्शन है| DBMS की हेल्प से users और programmers systematic तरीके से डाटा को क्रिएट, मॉडिफाई, अपडेट या फिर retrieve कर सकते है| Traditional कंप्यूटर फाइल बेस्ड processing एप्रोच की तुलना मे DBMS use करने के बहुत सारे फायदे है जिनको आगे बताया गया है। 

dbms kya hota hai

DBMS

DBMS को सिंपल लैंग्वेज मे कहे तो DBMS- users एंड डेटाबेस के बिच एक इंटरफ़ेस है जो की डाटा consistency के साथ organized तरीके से डाटा एक्सेस किया जाना सुनिश्चित करता है। आज की तारीख मे बहुत सारे अलग अलग तरह की डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम्स उपलब्ध है जो की छोटे सिस्टम्स जिनको की पर्सनल कंप्यूटर कहा जाता है से लेकर बड़े सिस्टम्स जैसे सुपर कंप्यूटर तक के लिए बने हुए है। डेटाबेस का एक बहुत इम्पोर्टेन्ट फंक्शन डेटाबेस इंजन के (जो की डाटा को access करने के) साथ साथ डेटाबेस स्कीमा (Database का लॉजिकल स्ट्रक्चर) को भी मैनेज करता है। जब से DBMS लांच हुआ है तब से आज तक जरुरत अनुसार इसमें बहुत सारे updation हुए है। Example of DBMS software – Microsoft SQL Server, MS Access, MYSQL, IBM Informix, Oracle Database, PostgreSQL, SQLite, dbase, FoxPro, Firebird etc | 

इस प्रकार डीबीएमएस तीन इम्पोर्टेन्ट चीजों को manage करता है (Three important elements of database) – डाटा, डेटाबेस इंजन एवं डेटाबेस स्कीमा| डेटाबेस इंजन की हेल्प से डाटा operations जैसे डाटा एक्सेस, मॉडिफिकेशन, लॉक्ड आदि ऑपरेशन्स परफॉर्म किये जा सकते है| डेटाबेस स्कीमा डेटाबेस के लॉजिकल स्ट्रक्चर को डिफाइन करता है| डीबीएमएस के ये तीनो फंडामेंटल एलिमेंट्स कंकर्रेंसी, सिक्योरिटी, डाटा इंटीग्रिटी एवं यूनिफार्म एडमिनिस्ट्रेशन procedures प्रोवाइड करते है | इन सबसे आलावा कुछ ओर  डेटाबेस एडमिनिस्ट्रेशन टास्कस जो की डीबीएमएस support करता है वो है – चेंज मैनेजमेंट, परफॉरमेंस मॉनिटरिंग, टोनिंग, बैकअप एंड रिकवरी | Real Life Examples of databases – library systems, Banking database, Flight and railway reservation systems, inventory systems etc |

Read Also – What is Query in DATABASE

Important functions of DBMS :

  • Concurrency control system: बहुत सारे users अगर एक डेटाबेस को same टाइम मे एक्सेस करते है तो ये data accessible ensure करना|
  • डाटा स्टोरेज मैनेजमेंट: यह डाटा स्टोरेज के लिए mechanism प्रोवाइड करता है।
  • Authorization and सिक्योरिटी : users एक्सेस के लिए सिक्योरिटी रूल्स डिफाइन करना।
  • बैकअप एंड रिकवरी : डाटा का रेगुलर बैकअप हो एवं जरूरत पड़ने पर डाटा रिकवर हो पाए।
  • Data Definition Services: डीबीएमएस, डाटा डेफिनिशंस accept करती है जैसे एक्सटर्नल स्कीमा, इंटरनल स्कीमा आदि|

DBMS Components : डीबीएमएस के बहुत सारे components है एवं हर एक components database management system मे इम्पोर्टेन्ट रोले play करता है| List of few important components are – 

  1. Software
  2. Hardware
  3. Data
  4. Procedures
  5. Users
  6. Database Engine

Advantages of DBMS:

  1. Reduce Redundancy
  2. Better Data Integration 
  3. Data sharing
  4. Data standard
  5. Security 
  6. DATA backup and recovery
  7. Better Speed
  8. Better Performance
  9. Increase Productivity 

Disadvantages of DBMS:

  1. higher Cost of डीबीएमएस Software
  2. Dependency increase on computer and DBMS expert
  3. Complexity 
  4. Increased Cost

Leave a Reply