What is Cloud Computing Meaning in Hindi | क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है hindi essay

Explain cloud computing

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है : Cloud computing के बारे मे आज हर कोई बात कर रहा है एवेम इस word को लेकर बहुत लोगो मे confusion भी देखने को मिल रहा है | यह एक ऐसी technology है जो की बहुत तेजी से पुरे world मे grow कर रही है एवेम technology companies इसको adopt भी कर रही है | वैसे तो ये technology IT and computer networking से related है लेकिन हर दूसरा person इसको या तो mobile मे या किसी न किसी रूप मे use कर रहा है इसलिए इसको सभी के लिए जानना जरुरी है |

Cloud computing

Cloud computing

क्लाउड कंप्यूटिंग को सबसे easy words मे explain किया जाये तो – Cloud computing का मतलब है आपके data, software or programs को आपके computer की local drive पर store नहीं करके उनको अगर internet पर store किया जाये या internet से access किया जाये तो इसको cloud computing कहेंगे | Cloud को हिंदी मे बादल कहते है लेकिन इसका बादल से कोई मतलब नहीं है | क्लाउड केवल और केवल एक phrase है जो कि internet के लिए use किया जा रहा है | इस प्रकार यह internet based computing है जो की shared कंप्यूटर processing रिसोर्सेज and data को computers ऐवम दूसरी devices को on demand provide करती है |

इस प्रकार अगर आप घर पर है या किसी ओर जगह पर या फिर अगर आप travel कर रहे है तो भी आप internet cloud पर store किये गए resources को internet की help से कही से भी access कर सकते है | किसी भी individual user के लिए cloud computing का मतलब या use, enterprise use से बिलकुल different हो सकता है | किसी individual user के लिए cloud computing का मतलब केवल information को online store करके उसको access करने से या फिर ज्यादा से ज्यादा कुछ online program को अपने personal काम के लिए access करने तक ही सिमित हो सकता है लेकिन अगर enterprise use की बात करे तो उसके लिए online storage से लेकर program execution ऐवम उनके resource को increase करने से ले कर आगे और भी data processing के लिए हो सकता है |

Example of क्लाउड कंप्यूटिंग – क्लाउड कंप्यूटिंग का एक individual user के लिए सबसे बड़ा example है social networking website जैसे की Facebook, LinkedIn, MySpace, Twitter etc | यहाँ पर आपकी सभी information online store है ऐवम आप कही से भी उनको access करके सभी online users के साथ information को share कर सकते है | Email based services जैसे की Gmail, Hotmail, Yahoo आदि भी क्लाउड कंप्यूटिंग का अच्छा example है जहा पर users emails को internet की help से कही से भी access कर सकते है | ये mails इनके server पर store होती है and वही पर process होती है जैसे की Gmail के server पर, Hotmail के server पर या फिर yahoo के server पर | इसके साथ ओर भी example है – youtube, Picassa, BitTorrent, financial apps जैसे की Mint ऐवम और भी | Microsoft का Office Desktop Software भी अच्छा example है cloud computing का जो की online access किया जा सकता है – Web based Microsoft Office 

क्लाउड कंप्यूटिंग के फायदे : Traditional business की तुलना मे क्लाउड कंप्यूटिंग एक बड़ा step है जिससे की companies के काम करने के तरीके मे बहुत अंतर आया है | लेकिन क्लाउड कंप्यूटिंग मे जाने के companies के अपने फायदे है | कुछ फायदे यहाँ list किये जा रहे है –

  1. Speed : क्लाउड कंप्यूटिंग companies on demand पर आपको कुछ भी resource कुछ ही minutes मे provide कर सकती है | Resources के बढ़ाने पर आपकी demand की speed आपको कुछ minutes मे provide की जा सकती है |
  2. Cost : Cloud computing को अपनाने का सबसे बड़ा फायदा initial setup and maintenance cost को कम करना है | अगर companies cloud comping पर जाती है तो उनको कोई भी server room, server, racks, UPS, power, man power या maintenance की जरुरत नहीं | जब जितना resource चाहिए companies cloud पर ले सकती है | हालांकि इन सबके लिए आपको service provide को एक फीस monthly or yearly देनी होगी |
  3. Reliability : क्लाउड कंप्यूटिंग reliable होती है क्योकि वहां पर हर चीज का provision होता है | अच्छा man power होने के साथ साथ, data backup, disaster recovery का धयान रखा जाता है |
  4. Productivity : Companies अगर cloud computing लेती है तो उनके employees and management को अपने human resource को दूसरी जगह use कर सकती है जबकि अगर वो setup local रखते है तो उसके लिए उनको बहुत ज्यादा time देना पड़ेगा जिससे productivity कम होगी | 

Type of Cloud Services – ज्यादातर cloud service तीन category मे आती है PAAS, SaaS, IaaS | इनको cloud computing का stack भी कहा जाता है | 

  1. Platform as a service ( PaaS)
  2. Software as a Services ( SaaS)
  3. Infracture as a services ( IaaS)

Cloud को किस किस तरह से deploy किया जा सकता है – सारे clouds same नहीं होते ऐवम उनको deploy करने का तरीका भी demand के according अलग अलग होता है | Cloud को तीन तरीके से deploy किया जा सकता है – Public, Private and Hybrid cloud

4 Comments

  1. subhash chander bhati June 24, 2017
  2. adarsh pandey September 5, 2017
    • Amit Saxena September 5, 2017
  3. Sanjay Kumar Yadav June 5, 2018

Leave a Reply